Free Download Ravan Saranam Gacchami Abhimanyu Pandit Hindi Novel Pdf

0 5,443

Ravan-Saranam-Gacchami-Abhimanyu-Pandit-Hindi-Novel

लंका में आपका स्वागत है! रावण के चरित्र के बारे में अधिकांश लोगों को यही मालूम है कि उसने अपनी शक्ति के मद में चूर होकर सीता का हरण किया, जटायु के प्राण लिये, श्रीराम के दूत हनुमान का अपमान किया, राम ने अंत समय तक उसे धर्म के रास्ते पर लाने का प्रयास किया, पर अपनी अधर्मी जिद्द पर अड़े रहने के कारण उसे राम के हाथों सद्गति प्राप्त हुई। इस बात की भी जानकारी है कि श्रीराम द्वारा उसका वध आसान न था। वह दशानन था, साधारण तीर उसका कुछ बिगाड़ नहीं पा रहे थे। उसकी नाभि में अमृत का कुण्ड था। भगवान शिव द्वारा वरदान के रूप में दिये गये रावण के ही विशेष बाण को नाभि का निशाना बांधकर जब तक राम ने न चलाया, तब तक रावण का अंत न हो सका। लेकिन यह तो रावण के खलु चरित्र का एक रूप है। दूसरा रूप यह है कि वह महाज्ञानी पण्डित था। महा पराक्रमी और महा तपस्वी था। उसने अनेक द्वीपों और उपनिवेशों पर अपनी सत्ता स्थापना की। उसके खलू रूप को एक ओर करके, उसके साधु, पराक्रमी, विजेता, तपस्वी और ज्ञानी रूप को देखकर यदि आज उपराध जगत के विश्व प्रसिद्ध धुरन्धर उसका स्तुति गान करते हुए कहते हैं–‘रावण शरणम् गच्छामि’—तो कुछ आश्चर्य की बात नहीं। उसके सोने की लंका, धन कुबेर के खजाने की खोज में कुछ इण्टरनेशनल खलीफाओं की टीम जुड़ती है तो भी ताज्जुब नहीं होता। रावण के स्त्रोतों और मंत्रों की सिद्धि कर विश्व प्रसिद्ध जासूसी अपराधी पात्र, विश्व विजय का सपना संजोकर विश्व पर अपनी दुष्टता का शासन स्थापित करने का सपना संजोते हैं तो केशव पण्डित, अभिमन्यु, आर्शीवाद, सोफिया को चिंता अवश्य होती है। जासूसी उपन्यास जगत के उपरोक्त आपके चहेते पात्र जब अपने आदर्शवादी उसूलों के साथ ‘रावण शरणम् गच्छामि’ वाली टोली के विरुद्ध मैदान में उतरते हैं तो बरबस ही मुंह से निकल पड़ता है–जब तक केशव पण्डित, उसके दोनों लाडले जियाले सपूत, जननी जन्मभूमि भारत की आन, बान, शान की रक्षा और मानवता को बचाने के उद्देश्य के साथ जीवित हैं, रावण विचारधारा वालों का विनाश होता ही रहेगा। बेशक, उनका विनाश करने में कितनी ही बाधाएं आयें, पर विजय तो सत्य की ही होती है। बाधाएं और रावण शक्ति वालों के प्रयास, इस उपन्यास के सबसे रोचक पहलू हैं। ‘रावण शरणम् गच्छामि’ हिन्दी जासूसी उपन्यास जगत में पहला उपन्यास है, जो शीर्षक की घोषणा के दिन से ही चर्चा में है। इसलिए इस उपन्यास में वह सब कुछ प्रस्तुत किया गया है, जो इसके शीर्षक के अनुरूप है तथा जिसकी आप अपेक्षा करते हैं। और हां, उपन्यास में एक ‘रणचण्डी’ की भूमिका में उतरने वाली श्रृंगारी खलनायिका जुगनी भी है। जुगनी एक मनभावन किरदार की शक्ल में उभरती है। उपन्यास पढ़कर इस पात्र के बारे में अपनी राय देना न भूलिए। यह भी लिखिए कि क्या आप जुगनी को आगामी उपन्यासों में भी पढ़ना पसन्द करेंगे।

Name: Ravan Saranam Gacchami
Format: PDF
Language: Hindi
Pages: 359
Size: 2.6 MB

Novel Type: Thriller & Suspense, Crime & Mystery 

Series: Kesav Pandit Series

Writer: Abhimanyu Pandit

free download novel

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.