Free Download Deshdrohi Vicky Anand Hindi Novel Pdf

0 19,801

Deshdrohi Vicky Anand Hindi Novel

‘क्यों… ये गाली पसन्द नहीं आई? च-च-च-च-च! सच का घूंट कितना कड़वा होता है देशद्रोही ही कहा तो जल-भुन गए तुम शमशेर सिंह। जिस थाली में खाया उसी में छेद कर दिया। लेकिन घबराओ नहीं… इसमें घबराने वाली कोई बात यूं भी है ही नहीं। महज तुम ही एक देशद्रोही नहीं… जब से देश आजाद हुआ है तब से आज तक उंगलियों पर गिने जा सकने वाले लोगों ने ही देश के लिएकुछ किया है या करने की कोशिश की है वरना तोहर शख्स देश को नोचकर बेचकर खा जाने की कोशिश में लगा है। अगर अपनी जेब में पांच रुपये पहुंच रहे हैं और देश की पांच लाख की सम्पत्ति नष्ट हो रही है या होने की संभावना पैदा हो रही है तो पांच रुपये का मुनाफा उस पांच लाख की सम्पत्ति के एवज में स्वीकार कर लिया जाएगा। कमीशन जेब में और पुल धड़ाम से नीचे ।’ ‘अगर तुम सभी को गुनहगार समझ रहे हो तो फिर मुझे ही देशद्रोही क्यों मान रहे हो? कोई नेता देश के लिए कमजोर हथियार खरीद रहा है।

Name: Deshdrohi
Format: PDF
Language: Hindi
Pages: 383
Size: 30 MB

Novel Type:  Thriller & Suspense, Jasoosi

Writer:  Vicky Anand

free download novel

buy-from-amazon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.